अगर आप भी यूज़ करते हैं Google Chrome तो ध्यान दें, जल्द बंद हो सकता ब्राउज़र

इस्तीफा देते ही Mamta पर भड़के Dinesh Trivedi, कहा- डर है इसलिए सिर ऊंचा नहीं रखा जा सकता

Posted on

 

कोलकाता. पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनावों (West Bengal Assembly Elections 2021) से पहले तृणमूल कांग्रेस को झटका देते हुए पार्टी के सांसद दिनेश त्रिवेदी (Dinesh Trivedi) ने राज्यसभा से अचानक इस्तीफा दे दिया. राज्यसभा सांसद का पद छोड़ने के बाद दिनेश त्रिवेदी ने बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) पर निशाना साधा है.

दिनेश त्रिवेदी ने कहा, अगर ममता बनर्जी कहती हैं कि मैं अपना सिर ऊपर रखना चाहती हूं, तो उन्हें पता होना चाहिए कि हर किसी को अपना सिर ऊपर है. यदि हिंसा का वातावरण है, तो भय है, इसलिए सिर ऊंचा नहीं रखा जा सकता है. त्रिवेदी ने आगे कहा, मैं बीजेपी और उसके वरिष्ठ नेताओं का बहुत आभारी हूं, मुझे बताया गया कि उन्होंने पार्टी में मेरा स्वागत किया है. यह एक विशेषाधिकार होगा, इसके बारे में कोई सवाल ही नहीं है.

राज्यसभा में सदन की कार्यवाही के दौरान ही अपने इस्तीफे का ऐलान करते हुए दिनेश त्रिवेदी ने कहा था कि ‘मुझे पार्टी में घुटन हो रही है’, इसीलिए मैं राज्यसभा सदस्य पद से इस्तीफा दे रहा हूं.

पहले जैसा अब नहीं रहा
त्रिवेदी ने कहा था कि 100-500 करोड़ रुपये सलाहकारों को दिया जा रहा है, क्या यह पैसा गरीबों को नहीं दिया जा सकता. ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) ने तो वामपंथियों के खिलाफ अकेले जमीन पर लड़ाई लड़ी थी, लेकिन अब वैसा नहीं रहा. त्रिवेदी को जब आसन ने बजट पर चर्चा के दौरान बोलने के लिए कहा तो उन्होंने कहा कि घुटन महसूस हो रही है. माना जा रहा है कि त्रिवेदी अगले कुछ दिनों में बीजेपी में शामिल हो सकते हैं. सांसद ने कहा कि मैं आज राज्यसभा से इस्तीफा दे रहा हूं. मेरे राज्य में हिंसा हो रही है. हम यहां कुछ भी नहीं बोल सकते.

ये भी पढ़ें:

दिल्ली-NCR भूकंप ने दिलाई याद जिसने दी थी बड़े भूकंप की चेतावनी

ये भी पढ़ें:

मध्य प्रदेश विधानसभा में भी PAPER लैस बजट पेश होगा

नहीं पता है जमीनी हकीकत क्या है!

तृणमूल नेताओं के पलटवार पर कर दिनेश त्रिवेदी ने कहा कि उन्हें पता नहीं है कि जमीनी हकीकत क्या है. BJP अध्यक्ष जेपी नड्डा के काफिले पर हमले की निंदा करने को लेकर तृणमूल नेताओं ने उन पर निशाना साधा था. लेकिन उन्हें नहीं पता कि जनता इस पर क्या सोचती है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.